विषय सत्र

उद्घाटन पूर्ण सत्र के बाद सम्मेलन की कार्यवाही दो विषय सम्बंधी सत्रों में संचालित की गई। विषय सम्बंधी सत्रों के मूल विषय निम्नानुसार थे :-

    क. समावेशी लोकतंत्र और लोगों का सशक्तीकरण

    ख. नेहरू का वैश्विक दृष्टिकोण और 21वीं शताब्दी के लिए लोकतांत्रिक अन्तरराष्ट्रीय व्यवस्था


दोनों विषय सम्बंधी सत्रों में किसी प्रख्यात विद्वान द्वारा एक शोधपत्र प्रस्तुत किया और एक मुख्य वक्ता ने अपने विचार व्यक्त किए तथा प्रतिनिधिगण में से कुछ चुने हुए प्रतिभागियों ने भी अपने विचार प्रस्तुत किए। प्रत्येक मूल विषय सम्बंधी सत्र में की गई सिफारिशों का एक सारांश तैयार किया गया जिसे सम्मेलन के घोषणा-पत्र में शामिल किया गया।